एक कविता 

01-07-2020

अक्षरों का फूल चंदन
शब्द जब ले करें वंदन
बनी कविता 


बूँद शीतल बने वर्षण
रश्मियों का सुघर नर्तन
धूप का हो सुनहलापन
विहग वृन्दों का हो गायन
बनी कविता


जब हवाएँ भरे चंदन
शिल्प बिम्बों का हो स्यन्दन
कल्पना में भाव नूतन
क़लम का भी हो समर्थन
बनी कविता 


दर्प से हो दूर तनमन
साधना ही बने साधन
लक्षणा का दीप प्रज्वलन
व्यंजनामय गीत गुंजन
बनी कविता  


हृदय में आनन्द वर्धन
हो सुवासित मनन चिंतन
सर्वदा परमार्थ लेखन
नयन से करुणा का तर्पण
बनी कविता

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें