जहाँ भी देखता हूँ,
भीड़ लगी है लोगों की।
बेतहाशा भीड़ है,
एक हुजूम सा जैसे,
आँखों पर पट्टी बाँधे,
एक दिशा में ही हैं सब,
भेड़ चाल में ही हैं सब।
चले जा रहे हैं,
अनपढ़ भी और ज़ाहिल भी,
गँवार और पढ़े-लिखे से लोग,
लोग?
इंसान, मानव, प्राणी,
या, 
या कि जानवर?

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें