देखी हमने
भाँति भाँति की आँखें
हँसती रोतीं

झिलमिलाती
मुसकुराती शोख
तैरती आँखें

व्यथित आँखें
झेलती अतिचार
अवश आँखें

बूँद अश्रु की
ठिठकी पलक पे
बह न पाई

भाँति भाँति के
देखा करती दृश्य
दृष्टा है आँख

कह न पाई
देखती चुपचाप
बेबस आँख

डबडबाती
इतराती डूबती
झील सी आँखें

कातर आँखें
रोती भीख माँगती
याचक आँखें

0 Comments

Leave a Comment