आलंबन

शेष अमित


अँगूठे और तर्जनी के प्रेम में,
मध्यमा, अनामिका और कनिष्ठा ने,
कितना त्याग और समर्पण दिया है
कभी लेखनी से पूछकर देखिये,
अर्जुन के कमान से सहेजिये,
या फिर -
श्रद्धा की वेदी पर बलिदानी,
अँगूठे के विरह -कातर,
उस तर्जनी में हेरिये।

0 Comments

Leave a Comment