डॉ. एम. वेंकटेश्वर

डॉ.  एम. वेंकटेश्वर

डॉ. एम. वेंकटेश्वर

हैदराबाद 
व्यवसाय : सेवा निवृत्त, हिंदी प्रोफेसर (उस्मानिया विश्वविद्यालय/अंग्रेजी एवं विदेशी भाषा विश्वविद्यालय, हैदराबाद)
मातृभाषा : तेलुगु
हिंदी में प्रकाशित साहित्य :

  1. हिंदी उपन्यासों का मनोवैज्ञानिक अध्ययन
  2. हिंदी उपन्यासों में मनोविकृत पात्र
  3. हिंदी के समकालीन महिला उपन्यासकार
  4. आठवें दशक के हिंदी उपन्यास
  5. प्रयोजनमूलक हिंदी विविध आयाम 
  6. जीवन वृन्दावन (अनुवाद) 

संपादन : 

  1. संकल्य "बच्चन विशेषांक"
  2. समुच्चय – अंक 1 और 2
  3. भास्वर भारत (मासिक) (संयुक्त संपादन)
  4. "प्लेम" बुल्गारियान साहित्य पत्रिका (सं)

पुरस्कार एवं सम्मान

  1. सौहार्द्र सम्मान : उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान 2002
  2. बेस्ट टीचर एवार्ड : आंध्र प्रदेश सरकार 2004 
  3. बिहार राष्ट्र भाषा पुरस्कार : पटना 2009

हिंदी प्रचार/सेवा :

  1. विगत 40 वर्षों से हिंदी भाषा और साहित्य का अध्ययन/अध्यापन/शोध कार्य में निमग्न
  2. हिंदी भाषा और साहित्य का प्रचार और प्रसार (स्वच्छंद संस्थाओं में, ग्रामीण क्षेत्रों के स्कूलों और कालेजों में व्याख्यानों, कार्यशालाओं तथा संगोष्ठियों के माध्यम से भारतीय भाषाओं के परिप्रेक्ष्य में)
  3. 100 से अधिक शोध लेख प्रकाशित / आज भी लेखन कार्य जारी। (राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय पत्रिकाओं में) 
  4. 40 शोध छात्रों का पीएच और एम फिल उपाधियों के लिए शोध निर्देशन। 
  5. तीन वर्षों (1996–1999) तक यूरोप के विभिन्न विश्वविद्यालयों में अध्यापन तथा हिंदी तथा भारतीय भाषाओं, संस्कृति का अध्यापन, प्रचार, प्रसार 
  6. बुल्गारिया, पोलेंड, ग्रीस, आस्ट्रिया और जर्मनी के विश्वविद्यालयों में व्याख्यान और भारतीय संस्कृति का प्रचार–प्रसार
  7. 4 अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठियों तथा अनेकों राष्ट्रीय संगोष्ठियों में प्रतिभागिता।
  8. हिंदी पत्रकारिता से सक्रिय भागीदारी। 
  9. वर्तमान में "भास्वर भारत" मासिक पत्रिका केसंयुक्त संपादक के रूप में स्वैच्छिक सेवा में निरत।
  10. आंध्र प्रदेश के सुदूर (अहिंदी भाषी) ग्रामीण प्रान्तों में कार्यरत हिंदी अध्यापकों के लिए भाषा शिक्षण संबंधी शिविर, कार्यशालाओं तथा पुनश्चर्या कार्यक्रमों का स्वैच्छिक (सेवा भाव से) आयोजन और मार्गदर्शन के साथ साथ हिंदी भाषा का प्रचार–प्रसार के कार्य में निरंतर मग्न।
  11. देश के विभिन्न विश्वविद्यालयों में अतिथि आचार्य के रूप में अस्थाई तौर पर अध्यापन और शोध निर्देशन। (हैदराबाद विवि, काकतीय विवि, वर्धा विवि, कर्नाटक विवि, दक्षिण भारत हिन्दी प्रचार सभा – मद्रास, हैदराबाद, कोचीन धारवाड़; अरुणाचल प्रदेश – राजीव गांधी विवि आदि)

संप्रति : स्वतंत्र लेखन। हिन्दी, अंग्रेज़ी एवं तेलुगु साहित्य संबंधी आलोचनात्मक लेख, भारतीय एवं हॉलीवुड सिनेमा में विशेष रुचि। फिल्म समीक्षा लेखन। हिंदी अंग्रेजी और तेलुगु कथा साहित्य का आकलन।

विशेष अभिरुचियाँ : फोटोग्राफी, यात्रा, अध्ययन(पठन), साहित्यिक-शोध अध्यापन, ड्राइविंग, पत्र-व्यवहार, सिनेमा, संगीत (पाश्चात्य एवं भारतीय), सांस्कृतिक संयोजन आदि।

लेखक की कृतियाँ

साहित्यिक
सिनेमा और साहित्य
पुस्तक समीक्षा
यात्रा-संस्मरण
अनूदित कहानी
सामाजिक
शोध निबन्ध
विडियो
ऑडियो