हरबीर लुधियानवी

हरबीर लुधियानवी

हरबीर लुधियानवी

प्रिंसिपल हरबीर लुधियानवी (प्रिंसिपल हरबीर सिंह ग्रेवाल) २०१२ से टोरोंटो क्षेत्र में कार्यरत हैं। साहित्य में इनकी प्रमुख विधा ग़ज़ल है। ग़ज़ल को बहर में लिखने में विश्वास रखते हैं।

शिक्षा दीक्षा गाँव के ग्रामीण स्कूल से लेकर विभिन्न शहरों जैसे फ़िरोज़पुर, कपूरथला, बनारस, बेंगलोर, नागपुर, अमृतसर, फ़रीदकोट, लुधियाना इत्यादि की संस्थाओं में होने के कारण विभिन्न भाषाओं पर इनकी पकड़ मज़बूत है।

इनकी ग़ज़लें दैनिक ट्रिब्यून चंडीगढ़ व हिन्दी टाइम्स टोरोंटो में छपती रही हैं। २०१३-२०१४ में इनका कॉलम ’तीसरा आयाम’ हिन्दी टाइम्स टोरोंटो में ६/७ मास तक छपता रहा है।
इनकी पंजाबी ग़ज़लें रोज़ाना अजीत जालंधर, साहित्यिक पत्रिका त्रिशंकु लुधियाना, अजीत वीकली टोरोंटो व पंजाब स्टार टोरोंटो में छपती रही हैं।

२०१० में इनकी लिखी ग़ज़लों की ऑडियो सीडी ’शौक़ बेज़ुबान’ रिलीज़ हुई थी। २०११ में ’शौक़ बेज़ुबान’ की वीडियो सीडी भी रिलीज़ हुई थी।

प्रकाशित पुस्तकें : २०११ में ग़ज़ल संकलन ’शौक़ बेज़ुबान’ उर्दू/हिन्दी संस्करणों में
२०१२ में ग़ज़ल संकल ’दर्द बानिशान’ उर्दू/हिन्दी संस्करणों में चेतना प्रकाशन, लुधियान ने प्रकाशित किये थे। तीसरे ग़ज़ल संकलन की उर्दू/हिन्दी पाण्डुलिपियाँ भी कई वर्ष से तैयार पड़ी हैं। इसके अतिरिक्त पंजाबी के दो ग़ज़ल संकलनों की पाण्डुलिपियाँ  तैयारी के अन्तिम चरण में हैं।

अन्य शौक़ : पामिस्ट्री, न्यूमरोलोजी व एस्ट्रोलोजी में रुचि रखते हैं वह १९८१ से शौक़िया इसकी प्रैक्टिस कर रहे हैं।