ज़िम्मेदारी

01-01-2021

अपने हक़ के लिए लड़ें पर
भूल ना जाए ज़िम्मेदारी।
सड़कें जाम हुई धरनों से
परेशान जनता बेचारी।
  
तोड़ फोड़ और लूटपाट तो
जैसे चोली दामन की यारी।
हम अपना घर फूँक रहे हैं
यह कैसी है ज़िम्मेदारी।
 
छुआछूत और जाति पंथ से
कब मिलेगी हमें आज़ादी।
मोहरे बनकर राजनीति के
हमने आग भी ख़ूब लगा दी।
 
अब जागे हम और जगाए
सब की है यह ज़िम्मेदारी।
इस दलदल में फिसल ना जाए
शेष रही जो ईमानदारी।
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें