तेरी यादों के फूल
दिन की हलचल में
व्यस्तता की धूप में
कुम्हला जाते हैं
लेकिन
रात्री के
नीरव क्षणों में
बादलों की तरह
मेरे ख्यालों में
छा जाते हैं
दुश्मन सी यादें
बेचैन कर जाती हैं
उनसे डरती हूँ
दूर भागती हूँ
लेकिन
सच्चाई यह है कि
यादें ही
मुझे दोस्त की तरह
सुलाती हैं
तुम्हें सपनों में
बुलाती हैं
तुम से मिलती हैं।

0 Comments

Leave a Comment