उसी को कुछ कहते अपना बुतखाना है

03-07-2007

उसी को कुछ कहते अपना बुतखाना है

सजीवन मयंक

सुनता कोई नहीं सभी का अपना गाना है
हमको अपनी सभी गुत्थियाँ खुद सुलझाना हैं

सारी राहें जाम सभी दरवाजों पर ताले
समय किसी के पास नहीं है एक बहाना है

राशन की दुकान बिना सामान चला करती
इन बीते वर्षों में हमने इतना जाना है

सबके दिल में दर्द कोई हमदर्द नहीं मिलता
ऐसे में किसको अपना अब घाव दिखाना है

लोग जिसे कहते हैं मस्जिद बहुत पुरानी है
और उसी को कुछ कहते अपना बुतखाना है

0 Comments

Leave a Comment