उजाला छिन न पाएगा

06-06-2007

उजाला छिन न पाएगा

डॉ. राजेन्द्र गौतम

यह धुआँ
सच ही बहुत कडुआ - 
घना काला 
क्षितिज तक दीवार फिर भी 
         बन न पाएगा।
 
लाश की सूरज दबी 
चट्टान के नीचे
सोच यह मन में 
ठठा कर रात हँसती है
सुन अँधेरी कोठरी की वृद्ध खाँसी को
आत्ममुग्धा- गर्विता यह 
व्यंग्य कसती है
 
एक जाला-सा 
समय की आँख में उतरा
   पर उजाला सहज ही यों 
           छिन न पाएगा।
 
                संखिया कोई--
                कुओं में डाल जाता है
                हवा व्याकुल 
                गव भर की देह है नीली
                दिशाएँ निःस्पंद सब
                बेहोश सीवाने
कुटिलता की गुंजलक 
होती नहीं ढीली
 
                पर गरुड़-से 
                भैरवी के पंख फैलेंगे
                चुप्पियों के नाग का फन 
      तन न पाएगा।
 

0 Comments

Leave a Comment


A PHP Error was encountered

Severity: Core Warning

Message: PHP Startup: Unable to load dynamic library '/usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll' - /usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll: cannot open shared object file: No such file or directory

Filename: Unknown

Line Number: 0

Backtrace: