वक़्त ग्राहक था
हालात कोठा
और वो
भागने की चाह में,
बंद कोठे में क़ैद
कोई तवायफ़

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में