सोना और काम

डॉ. हरि जोशी

जीवन में काम काम,
संग में सोना सोना,
धरती पर सुख ही सुख,
फिर दुख को क्यों ढोना ।
सोना और काम बस दोनों ज़रूरी,
बिना इनके ज़िन्दगी शायद अधूरी।
 

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

यात्रा-संस्मरण
हास्य-व्यंग्य आलेख/कहानी
लघुकथा
कविता-मुक्तक
कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो