शाम सुहानी

01-04-2020

मेरी शाम सुहानी हो जाये
नानी एक कहानी हो जाये

 

कोई अच्छी सी
कोई सच्ची सी
जो गुज़री हो
कोई लम्बी सी

 

वही बात पुरानी हो जाये
नानी एक कहानी हो जाये

 

कोई सुख का हो
कोई दुःख का हो
जो नयन में अश्रु
बन छलका हो

 

मेरी आँख का पानी हो जाये
नानी एक कहानी हो जाये

 

कोई खेतों की
कोई हाटों की
कोई पनघट की
कोई घाटों की

 

तेरी अपनी बिरानी हो जाये
नानी एक कहानी हो जाये

 

कोई मौसी की
कोई मामा की
हो राधा की
या कान्हा की

 

कथ्य अल्हड़ जवानी हो जाये
नानी बस एक कहानी हो जाये

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें