इस सर्द मौसम में
जब भी सर्द हवा
मुझे छूती है,
तो वही अहसास मेरे दिल को
झंझकोर जाते हैं
जो तुमने दिए थे
उस सर्दी के
पहले मिलन पर !...

सर्द हवा गुनगुनाकर
स्पर्श होकर
अहसास कराती है
तुम्हारे
मखमली बदन की ख़ुशबू का!

तुम और मैं,
यहीं कहीं आस-पास खोये हुए हैं
इस सर्द मौसम में....

0 Comments

Leave a Comment