संधिबिन्दु की खोज

21-02-2019

संधिबिन्दु की खोज

डॉ. हरि जोशी

नई सड़क बनाने का लोभ,
पुरानी को त्याज्य नहीं बनाता
भावी भटकाओं से बचाने या
सतर्क करने वाला इतिहास
कभी उपेक्षायोग्य नहीं होता।

यह सुनिश्चित,
ऊबड़खाबड़ पुराने पथ के यात्री पराक्रमी रहे होंगे,
एतदर्थ यह पथ विस्मरण योग्य नहीं,
प्राचीन व अर्वाचीन को,
जोड़नेवाला महत्वपूर्ण सेतु है।

नए तुम पुरानों से छोटे हो,
चिलचिलाते हो, धूप और पानी भी सोख नहीं पाते हो,
तीव्र गति देकर, दुर्घटता कराते हो, खोटे हो।

चाहे स्वयं को नवीन कहो, चीखो,
मेरी सम्मति है, पुराने अनुभवों से भी कुछ सीखो।

पुरानापन समूचा त्याज्य नहीं,
नयापन संपूर्ण ग्राह्य नहीं,
प्रयत्न कर खोजो कोई संधिबिंदु,
जो पुराना भी हो और नया भी,
जो भावी भी हो, गया भी।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

यात्रा-संस्मरण
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
लघुकथा
कविता-मुक्तक
कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो