सबू को दौर में लाओ बहार के दिन हैं

26-06-2007

सबू को दौर में लाओ बहार के दिन हैं

अब्दुल हमीद ‘अदम‘

सबू को दौर में लाओ बहार के दिन हैं
हमें शराब पिलाओ बहार के दिन हैं

सबू=प्याला

ये काम आईन-ए-इबादत है मौसम-ए-गुल में
खारों को गले से लगाओ बहार के दिन हैं

आईन-ए-इबादत=पूजा का नियम

ठहर ठहर के न बरसो उमड़ पड़ो यक दम
सितमगरी से घटाओ बहार के दिन हैं

शिकस्ता-ए-तौबा का कब ऐसा आएगा मौसम
‘अदम’ को घेर के लाओ बहार के दिन हैं 

शिकस्ता-ए-तौबा= तोबा की पराजय

0 Comments

Leave a Comment