रोटी ख़ातिर आज सब, दौड़ रहे हैं लोग।
कोई तड़पे भूख से, कोई छप्पन भोग॥

 

देख धरा के हाल को, क्या होगा भगवान।
भूख मिटाने आदमी, बन बैठा शैतान॥

 

काम करो सब प्रेम से, तभी बनेगी बात।
कड़वाहट जो घोल दे, वो खायेगा लात॥

 

धरती माता को कभी, मत बाँटो इंसान।
अन्न उगाओ खेत में, तभी बचेगी जान॥

 

माटी के सब पूत हैं, कर लो ऐसे काम।
याद करे सब आदमी, रहे जगत में नाम॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें