क़ुसूर क्या है

01-08-2019

क़ुसूर क्या है जो हमसे खताएँ होती हैं 
हुज़ूर आप की क़ातिल अदाएँ होती हैं 

 

बरसना आता नहीं इनको है यही रोना 
फ़लक पे रोज़ ही काली घटाएँ होती हैं 

 

गुनाहे-इश्क़ तो आँखों का मशग़ला ठहरा 
ये क्या सितम है कि दिल को सज़ाएँ होती हैं 

 

ज़रा सी ओट अगर ले सको तो अच्छा है 
दिये की ताक में शातिर हवाएँ होती हैं 

 

हमारे पास भला क्या है और देने को 
तुम्हारे वास्ते दिल में दुआएँ होती हैं 

 

तुझे भी सैकड़ों सम्मान मिल गए होते 
‘अकेला’ तुझसे कहाँ इल्तिजाएँ होती हैं

0 Comments

Leave a Comment