प्यार की परिभाषा

15-01-2020

प्यार की परिभाषा

अनुराधा सिंह

अब जाना क्या है प्यार की परिभाषा 
सुनहली रेत पर हलकी हवा के अक्षर 
तपती दोपहरी पर ठंडी हवा का स्वर 
डूबती साँसों में जीवन की आशा 
अब समझी क्या है प्यार की परिभाषा 


नया कुछ भी नहीं है बहुतों ने किया प्यार 
कुछ को मिला दुलार, इनकार या इकरार 
पर ऐसा इज़हार. . .?
सोच कर लट्टू सा घूम जाती हूँ 
पागलपन के क़दम चूम जाती हूँ 
घूम घूम इतराती हूँ, और यक़ीं नहीं कर पाती हूँ 
फ़िल्मी गाने याद आते हैं 
नृत्य नृत्य कर जाते हैं 
ग़म ज़मींदोज़ हो जाते हैं 
चक्कर चक्कर हो जाते हैं 
अब समझी पपीहे के प्यार की भाषा 
और जाना क्या है प्यार की परिभाषा 


ये क्या है कुछ समझ न आवे 
इ वो है जो कृष्णा को भावे 
मैं राधा हूँ या रुक्मिणी समझ न आवे 
हे कान्हा तू जो न करवावे 
मैं तो तुझे ही नहीं राम को भी याद करती हूँ 
फिर तू ही क्यूँ दिल में बसे है 
सीता के सतित्व पर मरती हूँ 
फिर राधा ही क्यूँ डसे है 
मरी हुई दुनिया में कुछ ज़िन्दों का 
तू तो ईश्वर है प्यार के परिंदों का 
एक पतित पावन अभिलाषा 
अब जाना क्या है प्यार की परिभाषा

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें