15-06-2019

पिता के जाने के बाद

सतीश राठी

पिता के जाने के बाद 
बहुत कुछ ढह जाता है जीवन में 
घर हो जाते हैं खण्डहर 
गिरने लगते हैं टूटते रिश्तों की तरह 
सम्बन्धों में आ जाती है नीरसता 
सब कुछ हो जाता है औपचारिक 
बचपन की मधुर स्मृतियाँ 
होने लगती हैं धूमिल 


जब तक रहे थे पिता आँखों के समक्ष
सारे जीवन में थी एक निश्चिंतता
उनकी बाँहों में 
मर जाते थे सारे दुख 
मिट जाती थी सारी पीड़ा 
और मिल जाता था उनके पास 
हर समस्या का समाधान 


अब पिता के चले जाने के बाद 
जो भी कुछ ढह गया है जीवन में 
बड़ा मुश्किल हो गया है 
फिर से उसका वापस आ जाना।

0 Comments

Leave a Comment