फिर कैसे कह दूँ तुम हो पाई हो दूर

15-12-2020

फिर कैसे कह दूँ तुम हो पाई हो दूर

अरविन्द यादव

जब भी देखता हूँ आकाश में टहलता हुआ चाँद
टहलने लगता है तुम्हारा चाँद सा चेहरा
यकायक हृदयाकाश में
 
जब भी देखता हूँ आँगन में खिलखिलाता हुआ गुलाब
प्रतिबिंबित होने लगते हैं तुम्हारे होंठ
कोमल पंखुड़ियों में
 
जब भी देखता हूँ आकाश में उड़ते हुए काले-काले बादल
उड़ने लगती हैं तुम्हारी बेतरतीब फैली ज़ुल्फ़ें
सहसा आँखों में
 
जब भी देखता हूँ खिली हुई मदमस्त लहराती सरसों
कौंध उठती है तुम्हारी बलखाती अल्हड़ देह
सिमटी दुपट्टे में
 
जब भी बसन्ती हवा का झोंका छूकर निकलता है मुझे
अनायास हो जाता हूँ सराबोर तुम्हारी
देह की भीनी गन्ध में
 
जब भी सुनता हूँ दूर पेड़ों से आती कोयल की मधुर आवाज़
गूँजने लगती है तुम्हारी वाणी की मिठास
अचानक कानों में
 
जब भी देखता हूँ आकाश में डूबता हुआ सूरज
डूब उठता है हृदय, धीरे-धीरे यादों के
उन्मुक्त अम्बर में
 
फिर कैसे कह दूँ कि तुम हो पाई हो दूर 
हमसे, हमारी यादों से
कभी भी पल भर को ।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें