पसीने की कमाई

04-02-2019

पसीने की कमाई

डॉ. हरि जोशी

प्रतिदिन की तरह उस दिन भी,
कोई फाइल उन्होंने आगे नहीं बढ़ायी,

किन्तु पसीना बदन से टपक रहा था,
क्योंकि पंखे बेजान थे,
गर्मी में भी बिजली, दिन भर नहीं आयी,

कार्यालय से उठते हुए व्यक्त किया संतोष,
आज अपने भाग्य में थी, पसीने की कमाई।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

यात्रा-संस्मरण
हास्य-व्यंग्य आलेख/कहानी
लघुकथा
कविता-मुक्तक
कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
विडियो
ऑडियो