नदी का कुनबा

01-09-2019

नदी का कुनबा

डॉ. दयाराम

इस तट से उस तट तक
हुआ करती थीं
कुनबे की बातें
सुबह-शाम
रहती रौनक़ मेलों-सी
नदी गुनगुनाती
मधुर गीत सुनाती

धीरे-धीरे शब्द रूठ गये
नदी के गीत छूट गये
नदी अब भी बहती है
ज़मीन से चिपकी
सिसकती-सी, टेढ़ी-मेढ़ी
न गुनगुनाती है
न गीत सुनाती है
मौन है, तड़फड़ाती है
पर आँसू नहीं बहाती है।

1 Comments

  • 4 Sep, 2019 10:48 AM

    sundar v bhav puran kavita

Leave a Comment