महानगर में संध्या

06-06-2007

महानगर में संध्या

डॉ. राजेन्द्र गौतम

महानगर के बाज़ारों में
गिरह काटती धूसर संध्या।

 

स्वेद-सिक्त धकियाते चेहरे
रुद्ध राह है, पग पथराये
रक्त-जात सम्बन्धों को भी
रहे बाँट गूँगे चौराहे

यहाँ रोज ईमान खरीदे
बेच शील पेशेवर संध्या।

 

दिशा-हीन अंधी भीड़ों में
रहा खोज क्या निपट अकेला
लुटा राह में बनजारों-सा
गया छूट पीछे वह मेला

सूख गीत के अंकुर जाते
भूमि नागरी ऊसर वंध्या।

 

बनी बेड़ियाँ हैं अनदेखी
वर्ण-गंध की मधु छलनाएँ
लिये वंचना का बोझा हम
कहाँ-कहाँ की ठोकर खाएँ

विहग फाँस कर विश्वासों के
पंख कतरती निष्ठुर संध्या।

0 Comments

Leave a Comment