मेरा वो पहला प्यार

01-01-2021

मेरा वो पहला प्यार

दिप्ती देशपांडे गुप्ता

मेरा वो पहला प्यार 
आज भी पहला ही है
अपने लड़की होने का 
वो एहसास 
आज भी पहला ही है
 
ना जाने कितने ही पल 
गुज़र गए उन लम्हों को जिये
लेकिन तुम्हारे साथ बिताया हुआ 
हर वो पल 
आज भी पहला ही है
 
तुम जानकर भी अनजान बने रहे 
और मेरे प्यार को ठुकरा कर चल दिये
लेकिन तुम्हें ना पा सकने का 
वो दर्द 
आज भी पहला ही है
 
ज़माना बदला, तुम बदले और 
ज़िन्दगी ने हमारे रास्ते भी बदले
फिर भी किसी मोड़ पर तुम 
एक बार मिल जाओ ये ख़याल 
आज भी पहला ही है 
 
मैं बेटी से लड़की, लड़की से 
पत्नी और पत्नी से माँ बनी
लेकिन एक बार तुम्हारी प्रेमिका बन के 
जीने का सपना आज भी पहला ही है
 
ज़िन्दगी से मेरी कोई माँग नहीं, 
इसने मुझे सब कुछ दिया है लेकिन 
तुमसे हर सवाल का जवाब माँगने का 
मेरा वो हक़ 
आज भी पहला ही है
 
मेरा वो पहला प्यार 
आज भी पहला ही है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में