मैं जब भी
तेज़ चलता हूं
मंज़िलें
दूर जाती हैं
मैं जब
भी रुक जाता हूँ
रास्ते रुक जाते हैं
मैं अकसर सोचा करता हूँ
कैसे गुज़रूँगा
इन
राहों से

मैं फिर भी
उठ खड़ा होता हूँ
ये सोचकर
कि
कल भी कोई राहगीर गुज़रा था
यहाँ से
कल भी गुज़रेंगे कई लोग यहाँ
इसी उम्मीद में अकसर

मैं देखा करता हूँ
मेरी
कोशिश ज़िन्दगी
को भी
जीत सकती है।

0 Comments

Leave a Comment