माली बाग़ के रहना सावधान

15-02-2020

माली बाग़ के रहना सावधान

कुलदीप पाण्डेय 'आजाद'

माली बाग़ के रहना सावधान॥
पैर डिगें न तेरे आँधी या तूफ़ान।
माली बाग़ के रहना सावधान॥

 

कौन सुमन हैं कौन कंटक बाग़ के,
छिप-छिप के रहते बाग़ में।
हर पुष्प में जो भरते रहते भ्रांति,
मिटते रहते बाग़ की जो शांति।
निकाल दें भ्रांतियों को ऐसी कर ले आन।
माली बाग़ के रहना सावधान॥


राहों में बिछें हों अंगारे गर,
यदि रोक रहा हो उपवन गाकर।
बढ़ना नित अविरत तुम धैर्यवान।
माली बाग़ के रहना सावधान॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें