मैं दीप किरण हूँ

01-01-2020

मैं दीप किरण हूँ

नीरज सक्सेना 

तिमिर को भेदने की साधना
अंधकार मिटा हरूँ मैं वेदना
मैं ज्योति पुंज का निमित कण हूँ
प्रभा की आभा लिए मैं दीप किरण हूँ


रात्रि के उर को चाहता हूँ भेदना
इच्छित, धरा को प्रकाशमय देखना
नन्हा दीप सही किंतु मैं अडिग प्रण हूँ
प्रभा की आभा लिए मैं दीप किरण हूँ


दिनकर निरा निराश छाया रैन घना
नित सूर्य का तेज मद्धिम नहीं विडंबना
कांतपूर्ण मैं प्रज्वलित नन्हा सा अरुण हूँ
प्रभा की आभा लिए मैं दीप किरण हूँ


मेरी दीप्ति में आभा बिखेरती नवयौवना
नित निशा में प्रभा से शिशुओं में भरता चेतना
मानस हृदय बसता मैं तृप्त हर्षित क्षण हूँ
प्रभा की आभा लिए मैं दीप किरण हूँ


आरती के दीप बिन अपूर्ण, प्रभु उपासना
बनूँ देव देवालय शृंगार की मैं ज्योत्स्ना
कहूँ परमेश्वर से मैं सदा आपकी शरण हूँ
प्रभा की आभा लिए मैं दीप किरण हूँ


शलभ को अमरत्व देना, निज जीवन अर्चना
जगमग हेतु स्वीकारता अस्तित्व का मिटना
अपने संकल्पों में मैं सदा अटल अडिग प्रण हूँ
प्रभा की आभा लिए मैं दीप किरण हूँ

0 Comments

Leave a Comment