कुछ एहसास

01-02-2020

कुछ एहसास

कमला घटऔरा

(कुछ छोटी कविताएँ)

1.
ज़िन्दगी धूप ही धूप थी
तुमने थामा जो हाथ
छतरी बन शीतल छाँव
लगा, चलने लगी साथ।
2.
पथ था उबड़ खाबड़
पता न चला
कब ले गया पर्वत पार
राह दिखाता कंटक हटाता
तेरा एहसास या ख़ुद
तुम्हीं थे साथ।
3.
की थी मनुहार तुमसे
साथ चलने की कभी
मगर सुनी न गई तो
चल पड़े  अकेले ही
क्योंकि, धरा पर
आये भी तो अकेले ही थे।
4.
छूने की चाह ऊँचाइयों को
भले कभी पूरी हो न हो
मलाल न करो, कोशिश नहीं की
चल पड़ो जो संकल्प ले
पग बढ़ते जायेंगे, देखना
अपने आप मंज़िल की ओर।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें