इन दिनों वो भूख देखी 

01-09-2020

इन दिनों वो भूख देखी 

सतीश कुमार पाल

इन दिनों वो भूख देखी 
जो सब्र का बाँध तोड़े 
बह रही आँखों से थी 
इन दिनों वो हृदय देखा 
दर्द से कराहता हुआ 
कोने में कहीं ले रहा था सिसकियाँ 
आवाज़ें इन सिसकियों की 
जाती थी दूर तलक,
झिंझोड़ती  वेदना वाले 
कुछ शब्द भी दे जाती
बदले में ढ़ेरों ये आश्वासन ले जाती 
भूख दर्द के इस आलम में 
पास ही बिफरें पड़े थे ,
वो रोटियों के चंद टुकड़े 
फर्श पर बिखरे पड़े थे 
आँसुओ से मिलकर गीले हुए निढाल से
 फर्श पर आसन जमाएं 
लगा टकटकी बस चोरों और ताक रहे थे 
पर कौन इनको ग्रहण करता 
मौत का तांडव मचा था 
सूखे सबके मुँह 
पीड़ा से विह्वलें खड़े थे 
गुमनाम सी मौत के 
कुछ शव पड़े थे 
इन दिनों वो भूख देखी 
जो रुन्दन के चरम से,
बंद मुख के भीतर ही 
दब गई थी कहीं 
इन दिनों वो भूख देखी....!!!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें