हिम कण

शशि पाधा

आज शिशिर ने नील गगन के 
कानों में इक बात कही
धीमे से बरसाना हिम कण
कुछ पल धरती सोई है

देख धरा की आँख उनींदी
मौन हुआ सारा संसार
पंछी भूले कलरव कूजन 
दूर कहीं जा किया विहार

मौन हुई अब चहुँ दिशाएँ
कोहरे में डूबा संसार
मौन खड़े अब तरुवर देखें
धरती का यह रजत श्रंगार

आज शिशिर ने डाली-डाली
हीरक माल पिरोयी है
धीमे से बरसेंगे हिमकण
धरा सिमट कर सोई है

कुछ दिन पहले ऋतुराज ने
सत रंग होली खेली थी
नदिया झरने कलियाँ तितली
सब की रंगी हथेली थी

और ग्रीष्म के ताप की पीड़ा
धीर धरा ने झेली थी
रिमझिम रिमझिम बरसा सावन
धूप छाँव की केलि थी
क्यों आया निर्मोही पतझड़
जाने क्या पहेली थी

आज धरा की अंखियों में
हर पल की याद संजोई है

धीमे से बरसेंगे हिमकण
धरा सिमट कर सोई है।

0 Comments

Leave a Comment