गुरुदक्षिणा

01-04-2021

गुरुदक्षिणा

जैनन प्रसाद

सायक बिकते हैं
धनुर्विद्या भी बिकती है
पर बिकते नहीं हैं तो केवल
द्रोणचार्य जैसे गुरु।
लेकिन!
सौभाग्य से अगर
मिल भी गए
और कृपालु हों वे
अर्जुन ही समझ लें तुम्हें
तो किंकर्तव्यविमूढ़ की भाँति
तुम लक्ष्य अनुसंधान कर पाओगे?
भेद पाओगे! क्या?
वह आँख?
अगर इस दुष्कर कार्य में
सफलता मिल भी गई
तो माँग बैठेगा तुमसे!
गुरुदक्षिणा!
जो तुम दे नहीं पाओगे
क्योंकि तुम
एकलव्य नहीं हो।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें