एक तितली की मृत्यु 

01-04-2021

एक तितली की मृत्यु 

बृजेश सिंह

मूल कवि: युआन तुआन
अँग्रेज़ी अनुवाद: डेनिस मेर (The death of Butterfly)
हिन्दी अनुवाद: बृजेश सिंह


शरद ऋतु की चमकीली धूप में 
मेरे चलते क़दम ठिठक गये; 
दुर्योग से मेरे पैर तले 
एक तितली लगभग कुचली गयी। 
पहले सोचा मैंने, वह बैठी है सड़क पर;
मैं झुका डालने उस पर एक नज़र, 
बस देखने कि उसमें साँसें शेष हैं? 
 
काल कवलित हुई थी वह
कुछ क्षण पहले ही, 
पर दोनों एंटीना उसके लहरा रहे थे
हवा में अब भी; 
उसकी पतली टाँगों में 
ज़मीन पकड़ने की ताक़त शेष थी;  
उसकी आँखों के काले लैंसों से 
धूप चमक रही थी अभी भी,
उसके रंगीन चित्ती पंख हुये थे निर्जीव . . .   
उसका सौन्दर्य शांतिमय हुआ
कहीं अधिक पूर्ण, 
तब के बनिस्बत जब वह थी सजीव।  
 
उसकी मृत्यु ने मुझे
ख़ूबसूरत शब्द सोचने को मजबूर किया; 
पर ख़ूबसूरत शब्दों से 
उसकी मृत्यु का वर्णन नहीं किया जा सकता है। 
अनायास मैंने उसे उँगलियों में उठा लिया;
और लॉन में वहाँ रख दिया,
जहाँ लोगों का आना निषेध था; 
यही अंतिम संस्कार उसके लिए श्रेष्ठ था।     
 
मैं कभी नहीं भुला पाऊँगा 
लॉन के उस घास वाले हिस्से को, 
रेलवे स्टेशन से पहले 
पूर्व-पश्चिम मार्ग पर;
एक उच्च वोल्टता वाले पोल के नीचे, 
पहली क्रोसिंग पर।

 

जापान के जोसाई अंतरराष्ट्रीय विश्वविद्यालय में अध्यापन कार्य कर रहे चीन में जन्मे कवि युआन तुआन की कविता को अँग्रेज़ी में कवि डेनिस मेर ने  'The death of Butterfly' नाम से अनूदित किया  है, जिसे मैंने ‘एक तितली की मौत’ नाम से हिंदी में अनूदित किया है।  
 
आपके सुलभ सन्दर्भ हेतु कवि डेनिस मेर का अंग्रेजी संस्करण 

DEATH OF A BUTTERFLY

English version by Denis Mair

In glorious autumn sunshine
My busy steps were brought up short
By a butterfly I nearly crushed underfoot
At first I thought she was resting by the road
I bent down for a look
Only to find her breath had ceased

She must have died only moments before
Her two antennae still wavered in the wind
Her fine legs still had strength to grip the ground
Sunlight shone straight through her dark-lensed eyes
Her spotted wings refracted a forlorn deathly color
Her beauty lay in a serenity
More complete than when she lived 

Her death made me think of beautiful words
But no beautiful words could describe her death
Without thinking I took her in my fingers
And put her on the lawn, where people aren’t allowed
This burial was most fitting for her

I will never forget that patch of grass
On the east-west street before the Station
At the first crossing, beneath a high-voltage pole
 
  


 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें