31-10-2008

बंद होठों को अब तुम्हें खोलना चाहिये

सुशील कुमार

बंद होठों को अब तुम्हें खोलना चाहिये।

 

चुप रहे इतने दिन, दुःख सहे कितने दिन
विदीर्ण हॄदये, अब तुम्हें बोलना चाहिये।
कितनी धैर्य-परीक्षा दे, करोगी अपनी रक्षा
माते, केशपाश तुम्हें अपना खोलना चाहिये।

 

हे शिवरूपा, हे आद्याशक्ति, हे कपाल-कुंडला
तुम्हें अपना अंतस्ज्वाल टटोलना चाहिये,
हृदय में पड़ा महामौन अब तोड़ना चाहिये।

0 Comments

Leave a Comment