औघड़ दानी

01-10-2020

भोले बाबा औघड़ दानी, जटा विराजे गंगा रानी ।
नाग गले में डाले घूमे , मस्ती से वह दिनभर झूमे॥
 
कानों में हैं बिच्छी बाला, हाथ गले में पहने माला ।
भूत प्रेत सँग नाचे गाये, नेत्र बंद कर धुनी रमाये॥
 
द्वार तुम्हारे जो भी आते, खाली हाथ न वापस जाते।
माँगो जो भी वर वह देते, नहीं किसी से कुछ भी लेते॥

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें