नये साल की
ख़ुशियों में मगन
हम सब
अंजान हैं इससे
कि जवान होती सदी का
बूढ़ा बाप "समय"
चिंता में है,
क्योंकि आतंक से
दहकती इस दुनिया में
उसकी बेटी 
अब सोलह (16) की
हो गई है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में