अभी कुछ दिनों तक
तारीख़ के आख़िर में
भूलवश आते रहोगे तुम
फिर काटे जाओगे लकीर से
और वहाँ दर्ज होगा
तुम्हारे उत्तराधिकारी का नाम

तुम्हें शायद रास ना आए
मगर यही नियति है
सदियों की प्रथा
कि समय की म्यान में
नहीं रह सकते
दो बरस, एक साथ

0 Comments

Leave a Comment