डॉ. मनीष गोहिल

डॉ.  मनीष गोहिल

डॉ. मनीष गोहिल

सम्प्रति :

  • एसोसिएट प्रोफेसर, हिंदी विभाग, श्रीमती आर.डी. शाह आर्टस् एण्ड श्रीमती वी.डी. शाह कोमर्स कॉलेज, धोलका, ज़ि. अहमदाबाद (गुजरात), पिनकोड नं.382225

  • गुजरात यूनिवर्सिटी में हिंदी विषय में पीएच.डी गाइड के रूप में सेवारत। कॉलेज में स्नातक एवं स्नातोकोत्तर छात्र-छात्राओं के अभ्यास के लिए सेवारत।

प्रकाशन :

  •  उपेन्द्रनाथ 'अश्क' के उपन्यास (शान्ति प्रकाशन, रोहतक, हरियाणा)

  • मीडिया और हिन्दी भाषा का स्वरूप ( साधना प्रकाशन, कानपुर)

  • डॉ. धर्मवीर भारती : उपन्यास और उपन्यासकार (चिराग पब्लिकेशन, अहमदाबाद)

  • देश की प्रतिष्ठित पत्र – पत्रिकाओं तथा जर्नल में शोधपरक लगभग 45 लेख एवं अनूदित रचनाएँ।

  • हिन्दी – गुजराती कविताएँ भी प्रकाशित।

विशेष :

  • यू.जी.सी के रिसर्च प्रोजेक्ट में मीडिया में हिन्दी भाषा का स्वरूप पर शोधकार्य।

  • दूधनाथसिंह, धर्मवीर भारती तथा मीडिया एवं सोशल मीडिया से जुड़े विषयों पर विशेष शोध अनुशीलन।

  • गुजरात युनिवर्सिटी, अहमदाबाद में हिन्दी विषय में पीएच.डी शोध निदेशक (गाइड) के रूप में सेवारत।

  • गुजरात सरकार के उच्चशिक्षा विभाग द्वारा संचालित बायसेग अंतर्गत जीवन्त व्याख्यान श्रृंखला कार्यक्रम में कई व्याख्यान प्रसारित।

  • दूरदर्शन, अहमदाबाद के उपहार तथा आकाशवाणी, अहमदाबाद के युववाणी कार्यक्रमों में सक्रिय हिस्सेदारी।

  • कई राष्ट्रीय एवं आंत्तरराष्ट्रीय संगोष्ठियाँ तथा संगीत एवं सांस्कृतिक कार्यक्रमों के सफल आयोजन में मंच संचालक।

लेखक की कृतियाँ

कविता
यात्रा-संस्मरण
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में

साहित्यिक आलेख
Array
(
    [0] => stdClass Object
        (
            [id] => 116
            [title] => अस्पृश्यता : आधुनिक भारत में प्राचीन रोग
            [subtitle] => 
            [slug] => asprishyataa-aadhunik-bharat-mein-praachiin-rog
            [published] => 1
            [contents] => 

(गुजराती साहित्य के संदर्भ में)
 

अस्पृश्यता (UNTOUCHABILITY)  को आज रोग बना दिया गया है। इसमें कोई अतिशयोक्ति नहीं कि भारत इस बात पर विकास के नाम पर पिछडेपन में जा रहा है। कहते हैं कि भारत इक्किसवीं सदी में पहुँच चुका है। ग़लत, भारत आज भी पुरानी सदी में ही है। विकास मात्र भौतिकता का हो लेकिन समाज के बाक़ी हिस्सों का न हो तो उसे विकास नहीं कहा जाता। समाज के सारे अंगों का जिस दिन विकास होगा तभी भारत का सच्चा विकास होगा। 

गाँधीजी ने कहा था कि – "अस्पृश्यता का प्रचलन मेरे लिए असहनीय है। मैं इसे क़तई पसंद नहीं करता… अस्पृश्यता की प्रथा को जड़ से ख़त्म कर देना चाहिए।" अस्पृश्यता हिन्दु धर्म में ही वर्ग विभाजन का काम करती है। फिर भी जड़ बनी मानसिकता के चलते हिन्दु ही हिन्दु का दुश्मन हो, उस तरह का व्यवहार किया जाता है, निम्न वर्ण के लोगों के साथ। अस्पृश्यता सचमुच मानवता के विरुद्ध किया गया जघन्य अपराध और क्रूरतम हिंसा है। छूआछूत का प्रचलन प्राचीन भारत में तो था ही पर वर्तमान में भी यह कम नहीं हुआ। साहित्य में कई लेखक, कवि मित्रों ने अपनी रचनाओं में इस विषय पर ख़ूब लिखा है। आज तो हिन्दी साहित्य में दलित विमर्श के नाम से बहुत कुछ लिखा जाने लगा है। जो भी हो एक बात तो माननी होगी कि इस विषय को लेकर एक प्रकार की जागृति भी आयी है। लोगों को पता चला है कि दलित पर कितना अत्याचार हुआ या हो रहा है। दलित लेखकों की आत्मकथा बहुत कुछ कह जाती है। 

हिन्दी साहित्य की तरह गुजराती साहित्य में भी इस विषय पर बहुत कुछ लिखा गया है। गुजराती के सिद्धहस्त लेखक विनोद गाँधी की कहानियों में अस्पृश्यता को लेकर चर्चा देखने को मिलती है। उन्होंने अपने अनुभवों का ही चित्रण अपनी कहानियों में किया है। उनकी कहानी 'सब भूमि गोपाल की' हिन्दु धर्म में फैली छूआछूत की बीमारी की बात को उजागर करती है। मनुष्य जन्म एक ही बार मिलता है, फिर भी मानवता की धज्जियाँ उड़ाती है यह कहानी। अपने को उच्चवर्ण में बड़े गर्व के साथ गिनने वाला ब्राह्मण वर्ग ग़रज़ होने पर गधे को भी बाप कहने में शर्म महसूस नहीं करता और साथ ही साथ काम पूरा हो जाने पर उन्हें दुत्कार देने में भी कोई शर्म का एहसास भी नहीं करता। यही बात कथा में देखने को मिलती है।

गाँव के ब्राह्मण जटाशंकर की मृत्यु पर बाँस की अरथी की ज़रूरत पड़ने पर  हरिजन बस्ती में जाकर रेवाशंकर का भोला भंगी से बाँस की अरथी माँगना, पर उस समय भोला के चाचा की मृत्यु के लिए तैयार की गई बाँस की अरथी को न दे सकने की मजबूरी भोला द्वारा जताना, तब रेवाशंकर का भोला को हाथ जोड़कर समझा कर उसके चाचा की बाँस की अरथी माँग लेना। भोला का सहज स्वभाववश अपने चाचा की अंतिम विधि के लिए तैयार की गयी बाँस की अरथी रेवाशंकर को मुफ़्त में दे देना। कहानीकार का इशारा इसी बात पर है कि ज़रूरत पड़ने पर उच्च वर्ग दलित वर्ग से मदद लेने में को कोई छूआछूत नहीं मानता। तब वो लोग अपना उल्लू सीधा करने की फ़िराक़ में स्वयं को भगवान का ख़ास दूत कहकर अपने काम पूरे करवा लेता हैं पर काम हो जाने पर मन में छिपे गंदे विचारों को वक़्त आने पर खोल देने में उन्हें तनिक भी लज्जा नहीं आती। इसी बात पर लेखक ध्यान खींचते हुए जिस घटना का वर्णन करते हैं, उसको देखने से ही बात की सच्चाई का प्रमाण मिल जाता है। जैसे गाँव के शमशान में हरिजन टोली के प्रवेश करने पर उनकी जात दिखाना तथा उनका अपमान करते हुए कहना –

"ख़बरदार, अगर कोई स्मशान में दाख़िल हुआ तो…"

हरिजन डाघुओं की टोली वहीं ठिठककर खड़ी रह गई। जटाशंकर की अंत्येष्टि में आये हुए और वापिस जा रहे डाघु भी स्तब्ध हो गये।

पूरा वातावरण शांत हो गया।

"वापिस निकलो, बाहर निकलो, बाहर! साल्लो, तुम्हारे बाप का स्मशान है? अंदर जा रहे हो?" कोई बड़ी मूँछोवाला रोबीला आदमी बाहर निकला।

हरिजनों की टोली में से भोला आगे आया और बोला – "माई-बाप ! पिछले महीने ही ग्राम सभा में तय हुआ था कि गाँव के स्मशान में अब से सभी बिरादरी के शव जलेंगे।"

"कैसी ग्राम सभा, बे भोलिया ढे.....”!

"माई–बाप पूछिये, हमारी जात के मईजीभै सरपंच को....”

"कैसा सरपंच और कैसी बात और ऊपर से कैसी तेरी जात… बड़े जातवाले..., जा रहे हो कि… नहीं तो करें बापुगिरी...!”

फिर भी भोला खड़ा रहा। उसने सवर्ण डाघुओं की ओर नज़र की। भोला को विश्वास था कि रेवाशंकर गोर कुछ मदद कर देंगे। आज ही सुबह मैंने उन्हें अरथी देकर मदद की थी। इसलिए रेवाशंकर थोड़ी भी शर्म रखकर कुछ कहेंगे, उसने कहा… "रेवाशंकर गोर आप तो कुछ बोलिए…”

रेवाशंकर क्या बोले?
"भोलिया, रेवाशंकर क्या करेंगें? ऐसा कहेंगें कि हाँ, जाओ, अग्निसंस्कार करो। भोलिया आँखे दिखा रहा है? जाओ, जाओ....तुम्हारी जगह पर जलाओ। आज तो तुम लोग हमारे स्मशान में घुस रहे हो, कल को हमारे घरों में घुसोगे.....नफ्फटो जाओ...."1

स्पष्ट दिखायी देता है कि व्यक्ति की मृत्यु पर भी छूआछूत का माजरा बरक़रार रहता है। लेखक कहानी के अंत में इस भेदभाव पर करारा व्यंग्य भी करता है और कहता है –

"आधे घण्टे बाद स्मशान की दीवार के अंदर जटाशंकर की जल कर राख हो रही चिता में से उठते हुए धुएँ की लकीर और दीवार के बाहर की ओर से भोला के चाचा की जलने लगी चिता में से उठनेवाली धूएँ की लकीर ऊपर उठकर आकाश में एक-दूसरे में लीन होती दिखाई दे रही थी।"2

इसी प्रकार उनकी दूसरी कहानी 'प्रसाद' में शहरी सभ्यता के बीच हो रही छूआछूत की भावना का दृश्य वर्णन देखने को मिलता है। संभ्रांत समाज कहने को भले पढ़-लिखकर साक्षर हो गया, फिर भी उसके मन में दबे हुए, पिछड़े, निम्न लोगों के प्रति व्यवहार उनके छुआछूत भरे व्यवहार में झलक जाता है। निम्नवर्ण के प्रति उनकी मानसिकता में कोई फ़र्क नहीं आया। आज भी ऐसे लोग समाज में हैं जो निम्नजाति के लोगों के प्रति एक अपमानभरा व्यवहार करते रहते हैं। संविधान में भले ही अस्पृश्यता पर क़ानून बनाया गया हो पर मानसिकता के चलते कोई क़ानून काम नहीं आता। थोड़े समय पहले गुजरात में ऊना काण्ड हुआ था। जिसने पूरे भारतवर्ष में इस विषय पर बहस चलायी थी। ज़ाहिर में सरे-बाज़ार उन दमित– पिछड़े, निम्नजाति के लोगों को समाज के ही कहे जानेवाले कथित उच्च वर्ग के लोगों ने मारा था। इस घटना का वीडियो भी वायरल हुआ था। यह क्या बताता है? अस्पृश्यता के रोग को ही!

संभ्रांत कहे जाने वाले समाज के बीच रहनेवाला साफ़-सुथरा दलित परिवार जो आर्थिक रूप से समृद्ध है, वह समाज में सवर्ण लोगों से भी साफ़-सुथरे स्वच्छ तन-मन से रहता है, फिर भी सवर्णों के मन में छूआछूत का भाव बना ही रहता है। इस स्थिति की ओर विनोद गाँधी की 'प्रसाद' कहानी इशारा करती है। कहानी में कुछ प्रसंगों में उच्च वर्ग के मन में रहने वाली छुआछूत का चित्रण साफ़ दिखायी देता है। जैसे कहानी के प्रधान चरित्र रमीला का कथा का आमंत्रण देने आई पड़ोसी रीटा बहन से चाय के लिए आग्रह करना पर रीटा बहन का बहाना बनाकर इन्कार करना, बाद में पड़ोसी के घर चाय पीते-पीते हँसते हुए बातें करते देखना, कथा समाप्त होने के पश्चात् सबको कटोरी में प्रसाद देना और रमीला को केले के पत्ते पर प्रसाद देना आदि की घटनाएँ सवर्णों के मन में रह रहे वर्णभेद की ओर इशारा करती है। कहानी के अंत में तो कहानीकार जातिगत भेदभाव पर मार्मिक पर तीखा संदेश देता है। रमीला ने अपने घर रखी कथा में रीटा बहन का जानबूझकर हाज़िर न रहना तथा रात को उनका घर वापिस आने पर रमीला का अपनेपन की भावना के साथ ख़श होकर पड़ोसी धर्म निभाते हुए प्रसाद देने आना, पर सुबह कथा के महाप्रसाद का कैसा हाल होता है, स्वयं लेखक के शब्दों में ही देखें –  

"दूसरे दिन सुबह साढ़े नौ को हाथ में एटैची लेकर ऑफिस जा रहे मनोज ने आँगन में से ही रमीला को आवाज़ दी। रमीला का बाहर आते ही मनोज ने पड़ोसी रीटा बहन के घर के कम्पाउन्ड बाहर रखे पत्थर की ओर अँगुली से इशारा करते हुए उस ओर ध्यान खींचा।

रमीला ने देखा तो उस पत्थर पर महाप्रसाद पड़ा हुआ था। एक-दो कौए प्रसाद की लिज्ज़त ले रहे थे। एक कौए की चोंच में काजु का टुकड़ा था। शायद वह उसे हड्डी का टुकड़ा समझ रहा था। दूर से एक गाय दौड़ती हुई और सींग घुमाती हुई आई और कौए को उड़ाती हुई, बचा-खुचा प्रसाद जीभ के एक झटके से झपट गई और चली गई। पत्थर पर महाप्रसाद में रहे घी की चीकनाहट के धब्बे दूर से दिख रहे थे।"3

संविधान जो भी कहे पर जब तक समाज की मानसिकता नहीं बदलेगी तब तक समाज एक साथ नहीं चल सकता।'वसुधैव कुटुम्बकम्' की भावना तभी चरितार्थ होगी, जब सारा भारतवर्ष समानता के साथ जियेगा। सोच तो सकारात्मक है, पर देश की राजनीति इस भावना को प्रज्वलित होने से रोक रही है। मेरा सीधा इशारा है- देश की चुनावी प्रक्रिया पर। जब भी देश में चुनाव आता है, विकास की बातें धरी की धरी रह जाती हैं और अंत में जातिवाद का राज कारण आ जाता है और राजनेता भी इसी जातिवाद के आधार पर चुनाव को जीत जाते हैं। फिर कहाँ से होगा देश का विकास!

संदर्भ सूची:

1. पृ.17/18 सगडीनो अग्नि, विनोद गांधी, प्रथम संस्करण, 2012 डिवाइन पब्लिकेशन्स,30, कृष्ण कोम्पलेक्स, पुराना मोडल सिनेमा, गांधी रोड़, अहमदाबाद – 380001
2.पृ.18 सगडीनो अग्नि, विनोद गांधी, प्रथम संस्करण, 2012 डिवाइन पब्लिकेशन्स, 30,कृष्ण कोम्पलेक्स, पुराना मोडल सिनेमा, गांधी रोड़, अहमदाबाद – 380001
3. वही, पृ. 64

[featured_image] => [category_id] => 39 [section_id] => 117 [author_id] => 539 [publish_date] => 2020-09-10 [template] => page [category] => साहित्यिक आलेख [category_slug] => sahityik [section] => दलित साहित्य [section_slug] => dalit-sahitya [author_name_prefix] => डॉ. [author_name] => मनीष गोहिल [author_slug] => manish-gohil ) )