ज़िंदगी के किसी एक मोड़ पर

01-10-2020

ज़िंदगी के किसी एक मोड़ पर

सनी गंगवार 'गुरु'

ज़िंदगी के किसी एक मोड़ पर
मिली थी तुम मुझे
मेरी दोस्त बन के
चल दिया हाथ पकड़ के
अपना साथी मान के
दोनों एक मंज़िल की राह पर
क्या पता था मुझे
तू किन राहों पर लाएगी मुझे
समझ न पाया मैं तुझको
समझ न पायी तू मुझको
जो न मंज़ूर था मुझको
वही मंज़ूर था तुझको
जो लिया था तूने फ़ैसला
टूट सा मैं गया
फिर तूने साथ न दिया
किसी और ने हाथ थाम लिया
हुआ इश्क़ आज फिर हमको
न समझ नादान थी वो
चला फिर मैं अपनी मंज़िल को
तेरा हाथ छोड़ के
न समझ पाया मैं तुझको
न समझ पायी तू मुझको

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें