ये झंडा पहचान बन जाए 

15-08-2020

ये झंडा पहचान बन जाए 

सुजीत कुमार संगम

थामूँ हाथ में झंडा 
मेरी पहचान बन जाए
मेरी ये जान बन जाए
मेरा अभिमान बन जाए


वतन मेरा मुझे प्यारा 
ये बातें आम करता हूँ
आऊँ काम मैं इसके 
यही अरमान बन जाए


वीरों की है ये धरती 
वतन पर जान देते हैं
कफ़न बन जाए ये झंडा 
यही सम्मान बन जाए


कहता है वतन मेरा 
किसी से बैर न करना
बढ़े जो दोस्ती का हाथ 
यही पहचान बन जाए


मेरे इस देश की मिट्टी 
ने नित प्यार ही बाँटे
मिलूँ जो ख़ाक में इसकी 
मेरा सम्मान बन जाए


कहता है सुजित ये सुन 
वतन से वैर मत करना
फ़ना हो जा वतन पर तो
ये फिर पैग़ाम बन जाए

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें