यह मज़हबी युद्ध

18-10-2017

रक्तरंजित यह धरा और बहती अश्रुधार
फैलीं भुजाएँ आतंकी करती नरसंहार
कितना विषैला कितना अशुद्ध....यह मज़हबी युद्ध

नौजवां पथभ्रष्ट करते अनिष्ट
बाँध बारूद छाती हुए आत्मघाती
क्यूँ अमन के विरुद्ध....यह मज़हबी युद्ध

धर्म के ठेकेदार कर रहे व्यापार
बनकर बिचौली खेलें खूनी होली
समझें अनिरुद्ध.... यह मज़हबी युद्ध

न देश न समाज न माँ की चीत्कार
धर्म और ईमान चन्द नोटों के गुलाम
प्रभु रुष्ट अल्लाह भी क्रुद्ध....यह मज़हबी युद्ध

न भगवा न हरा न ही श्वेत यह ख़रा
रंग जो विनाश का सिर्फ़ सुर्ख लाल सा
जन निराश शांत जैसे बुद्ध....यह मज़हबी युद्ध

0 Comments

Leave a Comment