विश्व पुस्तक मेला

23-04-2008

विश्व पुस्तक मेला

डॉ. कैलाश वाजपेयी

एक साथ इतनी ज्ञान राशि
देखकर
रो पड़ा मेरा मन
पहले पहल जिस जंगल में
जन्मा होगा
यह काव्य
यह चिंतन
संज्ञान, सार, भूमिका
वहाँ अब रेत ही रेत है।

 

उम्र के इस पायदान पर
क्यों रोया मैं?
क्या हर किताब, वध किए वृक्ष का
प्रेत है इसलिए
या फिर यह सोचकर
शब्दों के आक्षितिज फैले
साम्राज्य में
मैं रिरियायकर मर जाऊँगा अन्ततः
उस बच्चे की तरह
जिसके पूर्वज
वाग्येयकार थे

0 Comments

Leave a Comment