तुम्हें भूलूँ भी तो कैसे मैं 

01-04-2021

तुम्हें भूलूँ भी तो कैसे मैं 

गौरव कुमार महतो

 
तुम्हें भूलूँ भी तो कैसे मैं 
तुमने मुझ पर अमिट छाप जो छोड़ी है 
तुम्हें भूलूँ भी तो कैसे मैं 
तुमने मेरे जीवन को नये रास्ते पर जो मोड़ा है।
  
सच कहूँ,
आज भी तुम मुझे याद आते हो
और अत्यधिक मन को भाते हो
तुमसे दूर तो रहता हूँ 
पर तुमसे ज़्यादा मजबूर मैं रहता हूँ 
न जाने ये कैसा बन्धन है 
जो मुझे बाँध कर रखता है 
एक सीमित दायरे में।
 
सोचता हूँ,
इस बन्धन को तोड़ दूँ
और एक बार फिर से 
इस अनजान रास्ते को तुम्हारी तरफ़ मोड़ दूँ ।
पर क्या करूँ ,
मजबूर हूँ 
शायद इसलिए 
आज भी तुमसे दूर हूँ।
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें