रिश्ता मन से मन का

20-01-2019

रिश्ता मन से मन का

आस्था

मन के भाव
रिश्ते की
परिभाषा को
ढूँढ़ते रहे
मन ही मन
शब्दों की 
माला में
उलझकर 
इस ओर से
उस ओर से
मूक सफ़र
करते रहे
मन ही मन
हर संशय 
सहजता से
सुलझाकर
एक दूजे को
समझते रहे
मन ही मन
जाने कैसे
कब कहाँ
अटूट प्रेम से
बँधते रहे
मन ही मन
ये मन के भाव!
 

0 Comments

Leave a Comment