राष्ट्रवाद 

01-06-2020

राष्ट्रवाद 

जावेद आलम खान 

सत्ता की विरूदावली गाती भाषा 
और गर्दन का नाप लेते जल्लाद की मंशा
पंखा झलती बाँदियाँ हैं राष्ट्रवाद की 
राष्ट्रवाद का दिल नहीं होता 
उसके पास होती है सिर्फ़ घासलेटी भावनाएँ 
जिनको भड़काया जा सकता है 
कभी भी कहीं भी 
ये भावनाएँ किसी की भी हत्या कर सकती हैं 
अपने काग़ज़ी अहम के आहत होने पर 
बलात्कार पर हँस सकती हैं
स्त्रियों के विधर्मी होने पर 
और तो और 
बलात्कारी को परम राष्ट्रवादी साबित करते हुए 
तिरंगे को भी उसका समर्थक बना सकती हैं 


राष्ट्रवाद रक्षक है राष्ट्र का 
वह लड़ता है किसी अदृश्य शत्रु से 
ख़ुद को महसूस करता है 
युद्ध के किसी मैदान में हमेशा 
उसके पास होती है 
शत्रु के अत्याचारों की पूरी सूची 
देश के वीर सपूतों के शौर्य की 
न ख़त्म होने वाली दास्तान
हृदय में विधर्मियों से घृणा 
ज़बान पर राजा का यशोगान 
इस राष्ट्रवाद के संकेत पर 
घंटे जैसा बजता है जनगणमन  
टन टनाटन टन  

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें