परिभाषाएँ 

01-07-2020

परिभाषाएँ 

अमिषा अनेजा

वक़्त 
वो ठग है 
जो छलता जाता है 
और चलता जाता है 


दर्द 
वो कड़वी गोली है 
जो ऊपरवाले  ने
सबके पैमाने में घोली है। 


दोस्ती 
वो दुआ है जो क़ुबूल हुई है 
जिसकी वज़ह से 
ज़िंदगी मक़्बूल हुई है। 


पानी 
वो आब-ए हयात है 
जो मर गया है दरिया में 
और लोगों की आँखों में भी। 


रिश्ता 
वो होता है 
जो ख़ून से ख़ून को जोड़ता है 
और ख़ून-ओ-ख़ून कर छोड़ता है। 


तक़दीर 
जो हथेलियों में लकीर है 
पर कभी हाथ की पकड़ में ना आए 
ऐसी जानलेवा शमशीर है। 


मोहब्बत
जो हर इंसान 
सबसे ज़्यादा ख़ुद से करता है 
और दूसरों पर लुटाने का दम भरता है। 


ख़ुदा
जिसकी शान में हर बंदा सजदा करता है, 
और जिसके नाम पर 
अपनी हैवानियत को बेपरदा करता है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें