सूनी डगर पर
जब तन्हा होती हूँ,
तू तो नहीं होता
पर तेरी यादें,
मेरे साथ परछाई बन
चलती हैं।
कभी छोटी हो 
मुझसे छुपा छुपी खेलती हैं।
कभी बराबर हो हमराही 
बन जाती हैं।
कभी बड़ी होकर
मुझे अपने आग़ोश में भर लेती हैं।

 

उसका साथ,
तेरी कमी के एहसास को
कुछ कम कर देता है।
यदि हम जुदा न हो
हमसफ़र बन पाते,
तो यूँ ही चलते न,
परछाई की ही तरह
तुम्हारे साथ
उम्रभर.....!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में