हृदय में करुणा भर 
कर सबका सम्मान 
रूप और यौवन पर 
मत कर अभिमान 
 
परिश्रम से ही होता 
हर स्वप्न साकार 
ईर्ष्या और घृणा से 
मिलता नहीं प्यार 
 
ज्ञान से ही संभव है 
मनुज का उत्थान 
कर्मों से ही बनती है 
एक अलग पहचान 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें