पास कोई नहीं

रश्मि शर्मा

दुनिया के शोर से
ऊबा हुआ मन
एकांत तलाशता है
जब उस एकांत का
शोर भी
बहुत तीखा हो जाता है
तो आवाज़ लगाता है
उसे
जिससे उम्मीद हो कि
इन सब से परे ले जाएगा
मगर
दुनिया अपने मन के जैसी
नहीं होती
आपको दुनिया के साथ-साथ
ख़ुद से भी लड़ना होता है
क्योंकि
ज़रूरत के वक़्त आप
कभी किसी को पास नहीं पाएँगे।

0 Comments

Leave a Comment