उसने उस पर 
मुट्ठी भर के मिट्टी फेंकी 
बंद कर गया था दरवाज़ा 
बाहर की गली का 
गुमसुम बैठे टॉमी की
रोटी वाली कटोरी भी फेंक दी 
न जाने कहाँ खो दिया था बॉल
टेबल घड़ी टुकड़ों में नीचे फैली थी 
और फैले थे फर्श पर
बेतरतीब से किताबें कापियाँ
कलर्स पेंसिल रबर मिटकौना
जूते टिफिन बॉक्स 
सुना रही थी जब वो कहानी 
झकझोर सी गई भरभराती मेरी आँखें 
मुझे भी बच्चों का 
वह मासूम बचपन ले गया था
खींच कर हाथ यह दिखाने 
कि कैसे टूटते हैं
जज़्बात
मासूमियत के हर पल
इस बेरहम सी दुनिया में।

0 Comments

Leave a Comment